Happy selfieing

In 1839 by an amateur chemist and photography enthusiast from Philadelphia named Robert Cornelius took a self portrait, little did he knew that nearly 200 years later, this will become the craze and even phone will not be able to sell if they did not have selfie camera. Hopey, a 21 year drunken Australian studying science at the University of New England, a regional university in Armidale, north-west of Sydney posted a picture and used the word selfie for the first time. He wrote ” Um, drunk at a mates 21st, I tripped ofer and landed lip first on a set of steps I had a hole about 1cm long right through my bottom lip. And sorry about the focus, it was a selfie.”

Selfie is now included in the Oxford dictionary, and was named word of the year in 2013. I wish all my selfie crazy friends’ world read this useful piece of information and share it with their equal selfie crazy friends. Happy selfieing !

Advertisements

The #philosophy of social #connectivity (the art and science of nonsense)

With the emergence of social media platforms and bulletin board like face book, twitter, blogs, MySpace, instagram etc., people have more and more started using this innovative way to connect with others on their network, outside the network and anywhere on net-universe. Does this also requires a change in our social philosophy or has already changed it? Does our social behaviour, interpretation of society and social norm, our ethics now depend on the network we join? Or are we still maintaining empirical relations as we used to do? If there is change, what is the new social philosophy that we are now looking at?

Paul Sutton in 2012 stated “Theory of mind is the #cognitive skill of understanding another person’s state of mind. It’s an ability to intuitively comprehend that other people have mental states (beliefs, intentions, desires, knowledge etc) that may differ from your own and an understanding of others’ emotions and behaviours.” He further stated that “the size of a person’s social network is directly related to the size of part of the brain called the orbital prefrontal cortex, but that this is only true when brain size is combined with the psychological skills associated with a developed theory of mind.” A little confused I am, Does this somehow connected to people who are on social media and block part of their pages and posts to most of the people, including their friends, can it be attributed to adrenaline burst, or fear of rejection or being laughed at? Or they simply just don’t want to be talked about? But if you do not want to be talked about why connect with netizens on public platforms?

In fact most people including me are on public platforms for the visibility it offers, beyond ones physical circle or network. People want to be seen, heard (read) and like being noticed. But this is normal, is’nt it same as the social philosophy before net based social connectivity?

Albert Borgmann and Hubert Dreyfus believed that technology is a distinctive force, that improvised the human interpretation of reality in specific ways, this was similar to the view of Heidegger’s. So, technically this paradigm shift becomes “device paradigm shift” and the device of social communication changed. The reality changes to hyper-reality wherein one can stylize oneself for social consumption and acceptability. So, one can have more than one version of himself/herself on social platforms. You can be an artist on facebook and a politician on twitter or whatever you want to be, where you want. Your social status depends on your followers, the hits and the likes that you get. And if you are on platform like you tube you get paid for being hit… technically not physically.

This create a divide between reality and virtuality, the net universe may appear morally inert, politically inert, unbiased but it is not so. Netizens show more biases be it gender, sexual, political, cultural or otherwise that one is ever going to encounter in reality. What it does is disconnect one from reality as it throws him/her to virtual world. This ultimately has a maddening effect. The day may start with net-good morning and end with net-good night, and this goes to so many, that you have hardly ever met. But, to those around you in your real world, you hardly ever wish. Disconnection, as I said.

Then, there are those, who retain their identity in the virtual world, they also retain their social connections and their ethics, but, there are people who adopt new identity, new gender, new business, just to attract new followers. Their real life identity is perceived by them as “not interesting”. That means, this is a network where everyone is suspicious of everyone else, as you seldom know their real identity, and their ethics. So every relationship that you commit to carries a certain level of risk. It is the amount of risk that you take decides the number of your followers and size of your social net universe.

Another new phenomenon that has started with social medial revolution is “identity theft”, now its possible to download the pictures, and create a new ID with the same name as yours, steal your contacts, and write whatever one wants to. No wonder you will find a lot of real me, real you, real her and real him on twitter beside me, you, him and her. What is this psychology behind stealing the identity and contacts? One, identity crisis, no one follows you, like you so you adopt identity of a famous movie star or politician, second, deliberately, to post content that may be derogatory or defamatory to the original owner or someone else. Si I speak, and it becomes your point of view. But then there are consequences, not for you, but for the person you pretend to be. Well ethics have rotted so much on this net universe that you do not care about others. Its all about pretending. Mitch Parsell stated that “there is a tendency to constrict our identities to a closed set of communal norms that perpetuate increased polarization, prejudice and insularity.” He also states “that in the absence of the full range of personal identifiers evident through face-to-face contact, social networking may also promote the deindividuation of personal identity by exaggerating and reinforcing the significance of singular shared traits (liberal, conservative, gay, Catholic, etc.) that lead us to see ourselves and our contacts more as representatives of a group than as unique persons.” This is clearly been seen in the world including India, where we have right wing, left wing, secular, psuedosacular, so called secular, liberals and what not on the net universe. They feed on the crap and feed crap to others in their network. So a group of netizens become a net crowd, that trolls the other net crowd. We have a war of virtual gangs in our hands to deal with.

What happens to the privacy in net universe, well its public so whatever you do and you announce is public. There is no privacy whatsoever, even if you tweak your privacy settings, you still are seen to someone, somewhere, who would have sneaked into your universe under your running nose. If this is how you wish to lose privacy and start broadcast from wherever you are, why blame government to encroach your privacy, if you had wanted any you would have remained away from net universe. By becoming a netizen you give up your right to privacy, as I did. Now not only everyone know what i am doing or where I am travelling, but they feel its their right to comment on it too. Otherwise they just like it. Thank god as yet there is no dislike button or else…

Everything is not flip though most is, the good thing is that it opens social possibility for those who otherwise would have none. It let them form new connections, and encourages new thinking. But this is limited. A guy liking your post may actually have not liked it, may not be a guy, or may be simply doing it to instigate you to do more of the social nonsense. The grid of consciousness which guides the net universe, regards the net universe as single responsive living being that speaks through us, the thread or the lead is picked by another and another till a full cloth is woven. Network is a good place to show the other side of you, be it good or bad. But if you use your real identity you cannot get away with your responsibility and duties as good netizens. Which are same as a citizen, and if you do that, social network is the right place for you.

“People have realized just how much our concern with social acceptance spreads its fingers into almost everything we do,” says Kirsten Weir. Think I have parasympathetic over activity tonight. So would bid goodnight before I utter some more of this stupid psychological nonsense over my virtual universe.

कार्तिक पूर्णिमा

269532_10150233601496484_8365206_nहिन्दू धर्म में पूर्णिमा का महत्वपूर्ण स्थान है ׀ पूर्णिमा हिन्दू माह का वो दिन है जिस दिन चंद्रमा पूरा दिखाई देता है ׀ इस तरह एक हिन्दू वर्ष में १२ पूर्णिमा आती हैं ׀ कार्तिक माह में आने वाली पूर्णिमा को कार्तिक या त्रिपुरी पूर्णिमा भी कहते हैं ׀ आज के ही दिन भगवान् शिव ने राक्षस त्रिपुरासुर का वध किया था और जगत में त्रिपुरारी के नाम से जाने गए थे ׀ त्रिपुरासुर के नाम से ताड़कासुर के तीन बेटे विदयुन्माली, तरकाक्षा और विर्यावना जाने जाते थे ׀ सौ साल तक एक पैर पर और उसके बाद एक हजार साल तक अपने हाथो पर खड़े होकर तपस्या करने के पश्चात् भगवान ब्रम्हा प्रसन्न हुए, उन्होंने प्रकट हो पुछा, वत्स मांगो तुम्हे क्या चाहिए, जवाब मिला अमरत्व ׀ ब्रम्हा जी ने कहा की ये तो मैं दे नहीं सकता, कुछ और मांग लो, तिस पर उन्होंने ब्रम्हा जी से सोने, चांदी और लोहे के तीन किले बनाने के लिए कहा, और कहा की ये तीन किले अलग अलग दिशायों में हों तथा हज़ार वर्ष में एक बार ही एक सीधी रेखा में आये, और यदि कोई हमें नष्ट करना चाहे तो यह काम सिर्फ एक तीर से ही संभव हो, यह आगे चल के त्रिपुरा कहलाया׀ इन किलों का निर्माण माया ने किया, और जैसा होता है असुरो में देवो का जीना मुश्किल कर दिया और सब भगवन शिव के पास पहुंचे ׀ शिव ने कहा की वो कुछ बुरा नहीं कर रहे तो मैं कुछ नहीं करूंगा, देव फिर विष्णु के पास गए और बताया की शिव ने ऐसा कहा ׀ विष्णु तो विष्णु हैं, उन्होंने देवो को कहा की यदि वो कुछ बुरा नहीं कर रहे तो कुछ ऐसा करो की वो बुरा करने लगे ׀ तब विष्णु ने चार मनुष्यों  का निर्माण किया और उसे कहा की वो त्रिपुरा जाये और वहां वेदों से अलग प्रचार करे, वो असुरों को समझाए की न स्वर्ग है और न नरक, सब इसी पृथ्वी पर हैं उन्होंने अपने ज्ञान का प्रचार इतने अच्छे से  क्या की नारद भी उनके शिष्य हो गए ׀ तीनो असुरो ने भी नया धर्म अपना लिया और शिव की पूजा करना बंद कर दिया, कहा तो यहाँ तक जाता है की उन्होंने शिवलिंग भी नष्ट कर दिया, जिससे नाराज हो शिव ने पशुपतश्स्त्र चला कर तीनो किलों को एक साथ नष्ट कर दिया ׀ त्रिपुरा नष्ट होने के बाद ये चारो मनुष्य भगवान विष्णु के पास पहुंचे और पुछा की अब हम क्या करे, विष्णु ने उन्हें मनुष्य से दूर रहने की सलाह दे कर जंगल में भेज दिया׀ किद्वंती है की कलयुग में जब बुराई फिर से अपने पाँव जमाएगी और सर उठाएगी ये चारों वापस आ कर फिर प्रचार शुरू करेंगे ׀ इनके दुष्प्रचार से पुन: वेदों को हास होगा और शिव फिर से आ कर धर्म की रक्षा करेंगे׀

विष्णु पुराण  के अनुसार कार्तिक पूर्णिमा के दिन ही भगवान विष्णु ने प्रलय काल में वेदों की रक्षा के लिए तथा सृष्टि को बचने मतस्य अवतार लिया था׀ कहा जाता है की ब्रम्हांड की विघटन के प्रलय से पहले ब्रम्हा जी के मुख से वेदों का ज्ञान निकल गया ׀ तब असुर हयग्रीव ने उस ज्ञान को चुराकर निगल लिया। उस समय विश्व पर सत्यव्रत मनु का राज्य था ׀ तब विष्णु एक छोटी मछली के स्वरुप में मनु के समक्ष उपस्थित हुए जब वो प्रातः कल सूर्य को अर्ध दे रहे थे तथा उन्होंने मनु से कहा की वो उसे अपने कमंडल में रख ले ׀ मनु को उस छोटी मछली पर दया आई और उन्होंने उसे अपने कमंडल में रख लिया, घर पहुँचते पहुँचते मछली कमंडल के आकर की हो गयी, मनु ने उसे दूसरे पात्र में रखा तो वो उस पात्र के आकर की हो गयी, तब मनु ने उस मछली को समुद्र में छोड़ा ׀ समुद्र में छोड़ते ही मतस्य रूपी विष्णु इतने बड़े हो गए की उन्होंने पूरा समुद्र ढक लिया, फिर उन्होंने मनु को बताया की ठीक सातवे दिन प्रलय आएगी तत्पश्चात् विश्व का नया श्रृजन होगा उन्होंने  सत्यव्रत मनु को सभी जड़ी-भूति, बीज और पशुओं, सप्त ऋषि आदि को इकट्ठा करके प्रभु द्वारा भेजे गए नाव में इकठ्ठा करने को कहा। तत्पश्चात् हयग्रीव को मर कर वेदों को मुक्त कर ब्रम्हा को वापस किया तथा मनु और उसकी नाव में संचित सभी जड़ी, बूटी, सप्त्रिशी, बीज, जीव इत्यादि को वासुकी को डोर बना कर सुमेरु पर्वत पहुँचाया ׀ इसी रस्ते में भगवान विष्णु ने मनु को मतस्य पुराण सुनाया ׀ आप को यह सब नोहा की आर्क की कहानी की तरह नहीं लगा, क्या बाइबल का नोहा और सत्यव्रत मनु एक ही व्यक्ति था? या फिर एक ही समय में दो अलग अलग ? इस आर हम कोई चर्चा नहीं करेंगे ׀

आज ही के दिन देवी तुलसी ने पृथ्वी पर जन्म लिया था, गोलोक के रासमंडल में राधा का पूजन श्री कृष्ण द्वारा किया गया था ׀ और आज ही के दिन गुरु नानक का भी जन्म हुआ था और यह दिन प्रकाश उत्सव के नाम से भी मनाया जाता है ׀

इस पूर्णिमा के दिन भरणी नक्षत्र हो या फिर रोहिणी नक्षत्र हो तो इस पूर्णिमा का महत्व कई गुणा बढ़ जाता है। इस दिन कृतिका नक्षत्र पर चन्द्रमा और बृहस्पति हों तो यह महापूर्णिमा कहलाती है। कृतिका नक्षत्र पर चन्द्रमा और विशाखा पर सूर्य हो तो “पद्मक योग” बनता है जिसमें गंगा स्नान करने से पुष्कर से भी अधिक उत्तम फल की प्राप्ति होती है। शास्त्रों में वर्णित है कि कार्तिक पुर्णिमा के दिन पवित्र नदी व सरोवर एवं धर्म स्थान में जैसे, गंगा, यमुना, गोदावरी, नर्मदा, गंडक, कुरूक्षेत्र, अयोध्या, काशी में स्नान करने से विशेष पुण्य की प्राप्ति होती है। कार्तिक माह की पूर्णिमा तिथि पर व्यक्ति को बिना स्नान किए नहीं रहना चाहिए तो चलिए उठिए और स्नान करने की तैयारी कीजिये ׀ ब्राह्मणों को दान देना बिलकुल मत भूलना ׀ आप की जिन्दगी में सुख समृधि आये हम यही कामना करते हैं׀

अंगस्कंध (विशेष भाग २)कहानी अब तक

angskandh cover compressed (अंक ११ तक की कहानी सूत्रधार की जबानी)

विशेष को जेल गए आज तीन महीने होने को हैं बहुत उत्सुकता हो रही होगी ये जानने की, कि उसके ये तीन महीने कैसे कटे, खासकर तब जब मुन्ना सुपारी भी उसी जेल में बंद था ׀ सिर्फ मुन्ना सुपारी ही क्यों, पप्पू और रामचंद्र सुनार भी वहीँ थे׀ अब जहाँ चार यार मिल बैठे वहां समय गुजरते देर नहीं लगती ׀ ये तो आप जानते हैं तो आइये चल कर देखे की विशेष की जेल यात्रा और जेल में उसका निवास कैसा रहा ׀

आपको तो याद ही होगा की कैसे रेवती के कहने पर विशेष कुँए में उतरा और वहां से मुन्ना सुपारी का पैसा ले रफूचक्कर हो गया और कैसे उसने उस पैसे को पप्पू और रामचंद्र सुनार के यहाँ ठिकाने लगाया ׀ किन्तु वाह री किस्मत पहले नोटबंदी और फिर एकल टैक्स उसपर आयकर वालो का छापा, हालत ये हुई की चारों के चारों जेल में ׀ उसपर रेवती, सुनंदा और शिवेंद्र ने भी राजनीती करते हुए विशेष को फसा दिया ׀ बिचारा विशेष भूतों पर इतना विश्वास था उसे की उसने कभी सोचा भी न था की एक दिन भूत भी उसे धोका देंगे ׀ वैसे विशेष को आज भी नहीं पता की उसके बुरे दिन भूतों के चलते शुरू हुए हैं और हम भी उसे नहीं बताएँगे, नहीं तो हमारी कहानी कैसे आगे बढ़ेगी ׀

लल्लन को तो आप भूल पाए नहीं होंगे ׀ इतने मस्त पात्र रोज रोज देखने को तो नहीं मिलते ׀ कहानी में तो लल्लन साइड डिश की तरह परोसे गए हैं परन्तु आप मेन कोर्स से कहीं कम नहीं ׀ इनके पटाखे विश्व प्रसिद्ध हैं और पाठक तो इनके पटाखों के दीवाने हैं ׀ क्या पटाखा संग्रह है इनका और आप बहुत दिलवाले भी हैं अपने पटाखे दोस्तों  को देने में भी इन्हें जरा सी भी हिचकिचाहट नहीं होती ׀ इन्होने पैसा बहुत ही रहस्यपूर्ण ढंग से कमाया है और आज भी आयकर और पुलिस वालो से बचे हुए हैं ׀ अब सारे अधिकारीगण इनपर क्यों मेहरबान रहते हैं आप को बताने की जरूरत नहीं है इनके व्यक्तित्व और कार्यशैली से आपका परिचय हम करवा ही चुके हैं कुछ दिमाग आप भी दौड़ाइए ׀

आपको रेवती याद हो न हो उसकी हीरे की लड़ तो जरूर याद होगी ׀ हाँ, यह वही रेवती है जो राजा अतीन्द्र नारायण की पत्नी थी और शिवेंद्र की प्रेयसी ׀ इन्हें शिवेंद्र से इतना प्यार है की मरने के बाद भी खंडहर में मिलने आ जाती है ׀ वो भी बरसात में भीगते हुए ׀ जी हाँ, ये वोही रेवती है जिस पर हमारी कहानी के बहादुर नायक, विशेष, का दिल आ गया था ׀ मैंने उसे बहादुर इस लिए कहा की कहीं बुजदिल भी भूतनी से प्यार करते हैं, प्रेतात्मा, भूतनी, चुड़ैल छोडिये बुजदिल भी कभी प्रेम करते है ׀ प्रेम करने के लिए कलेजा चाहिए और हमारा शूरवीर मुख्य पात्र विशेष दिलेर है ׀ अब आप कहेंगे की को वो अपनी पत्नी को तो पूरा समय देता नहीं है फिर कहाँ का प्रेमी ׀ दोस्तों अब मैं इस पर भी कुछ नहीं कहना चाहता, क्या आप बता सकते हैं की कितने पति सिर्फ और सिर्फ अपनी पत्नियों से प्यार करते हैं ׀ अरे नहीं! मुझे शाहजहाँ के बारे में मत बताओ, आज ताज बहुत विवादित है और अब वो मुख्य समाचारों में मुमताज महल से शाहजहाँ के प्यार के लिए नहीं है׀ तेरह बच्चे, बाप रे हद है ऐसे प्यार की भगवान बचाए

और गरिमा, उस बिचारी को कोई कैसे भूल सकता है ׀

बिचारी… और गरिमा !

अब आप पर है आप उसे बिचारी समझते है या नहीं ׀ सुबह नाहा धो कर सीधे घाट पर जाती थी आज भी जा रही है वहीँ जुकासो पर बैठी मिलेगी, कॉफ़ी के कडवे घूँट पीती ׀ वो तब भी फिरंगी ढूंढती थी और आज भी ढूंढ रही है लेकिन ये फिरंगी हैं की फुर्र हो जाते हैं ׀ सब भाग्य का खेल है… यदि भाग्य में फिरंगी लिखा होता तो अमेरिका में पैदा नहीं हुई होती पर गरिमा को कौन समझाए ׀ और हाँ, ऐसा बिलकुल मत समझिएगा की उसने विशेष को जेल से छुडवाने की कोशिश नहीं की, उसने वकील किये और अदालत में अर्जी भी लगाई ׀ अब आप भी विस्मृत होंगे की ऐसा कैसे हो गया ? दरअसल विशेष के जेल जाने के १५ दिन में ही उसे समझ आ गया था की अगर विशेष जेल से नहीं छूटा तो उसकी मस्ती ख़त्म ׀ दूकान पर बैठने और व्यापार देखने के लिए भी तो कोई चाहिए न, कोई ऐसा जिस पर विश्वास किया जा सके और पति से अच्छा क्या कोई हो सकता है ׀ आज दीपावली है और गरिमा जज साहब के घर जा रही है उपहार देने, उसके वकील ने उसे बताया है की बिना नजराने के आज कल के जज बेल नहीं देते ׀ तो बस वो आज मौका देख भेंट ले कर जा रही है और अगर जज साहब चाहेंगे तो  न्योछावर भी हो जाएगी ׀ पर इस बार दीपावली के बाद अदालत खुलने पर विशेष को बाहर ला कर ही दम लेगी ׀ विशेष पर भी तो एक अहसान हो जायेगा …

अब आज तो दीपावली है आप सब अपने घर और आत्मा को रोशन करे, दीप प्रज्वल्लित करे, वातावरण और प्रदूषण को ध्यान में कहते हुए पटाखे चलाये ׀ बच्चो की और विशेष ध्यान दे ׀ मिठाई बांटे और खिलाये, दोस्तों और मित्रो को उपहार दे, इस दीपावली तो नहीं लेकिन विशेष की ये आत्म कथा अगली दीपावली जरूर आप के हाथ में होगी तो अगली दीपावली दोस्तों को यही उपहार में दे ׀ दीपावली बाद आप से फिर मुलाकात होगी और फिर आपको रुपाली नमक पटाखे के बारे में बताएँगे ׀ जानता हूँ आपको भी बहुत उत्सुकता हो रही होगी यह जानने की कि उसने अपने तीन महीने कैसे बिताये ? जब तक मैं न बताऊँ तब तक आप अपना दिमाग दौड़ा सकते हैं ׀ माँ लक्ष्मी आप के घर आये और भगवान् राम आप का नाम रोशन करें इन्ही शुभकामनाओं के साथ कल मिलेंगे ׀

अब दीपावली पर पटाखे की बात न हो ऐसा कैसे हो सकता है ׀ उम्मीद है आप समझ गए होंगे की हम रुपाली की बात कर रहे हैं ׀ विशेष के जेल जाने से अगर कोई सबसे ज्यादा परेशान  हुआ तो तो रुपाली थी ׀ किन्तु होनी को कौन टाल सकता है ׀ नियति को विशेष का जेल जाना मंजूर था और वो गया, शायद उसके लिए अच्छा हुआ, उम्मीद है की जेल का अनुभव उसके लिए लाभकारी साबित होगा और इस अध्याय में जो विशेष दिखेगा उसमे शायद कुछ सुधर हो जाये ׀ बिचारी रुपाली, अभी कुछ महीने पहले ही तो नौकरी पाई  थी और अभी ठीक से अपने मोहरे भी नहीं बिठा पाई की …
तो आपको क्या लगता है की विशेष के जेल जाने के बाद रुपाली का क्या हुआ होगा?
अगर आप को ध्यान हो तो रुपाली तीक्षण बुद्धि की छैल छबीली लड़की थी, वो बहुत अनुभवी और स्मार्ट थी, तो उसको क्या परेशानी होनी थी ? नहीं नहीं.. वो लल्लन जी के पास नहीं गयी.. लल्लन जी के पास जाना तो आत्महत्या करना होता ׀ तो उसने क्या किया? चलिए कल बताते हैं ׀

रुपाली दो चार दिन दुकान पर बैठी, थोड़ी परेशान भी हुई और उसने बहुत सोचा ׀ सोचने के बाद वो इस निष्कर्ष पर पहुंची की विशेष पूरी जिन्दगी जेल में तो रहेगा नहीं एक न एक दिन तो बेल मिल ही जाएगी और वो बाहर आ ही जायेगा, बस जब तक वो नहीं आता तब तक का समय ही तो काटना है ׀ और चूँकि जब तक विशेष नहीं आता गरिमा मालकिन हैं तो उनको साधना जरूरी है ׀ रुपाली ने गरिमा से दोस्ती बढ़ानी शुरू कर दी, उसे सुन्दरता और सौन्दर्य को बढाने के सुझाव देने लगी׀ क्या पहनना है, कैसे चलना है कब दुपट्टा और  पल्लू गिराना है और कहाँ किसके सामने ׀ अब रुपाली और गरिमा दोनों जुकासो जाने लगी थी पर रुपाली वो अब गरिमा को क्लब, दिल्ली के पब, और बड़े होटलों में भी ले जाने लगी थी ׀ गरिमा को एक नयी दुनिया से रूबरू कर रही थी और इस सब के दौरान अपना उल्लू सीधा कर रही थी ׀ अब विशेष जब जेल से बाहर आयेगा तो उसकी मुलाकात एक नहीं दो पटाखों से होगी ׀ उम्मीद है की उसकी शादीशुदा जिन्दगी भी पटरी पर आ जाये ׀

आइये अब थोड़ी बात विशेष की भूत मंडली की भी हो जाये यानि की शिवेंद्र, रेवती और सुनंदा׀ चूँकि अभी तक अखंडेश्वर महादेव का शिवलिंग तो स्थापित ही नहीं हुआ इसलिए जाहिर सी बात है की तीनो अभी तक भटक ही रहे होंगे׀ रेवती तो उसी खंडहर में घूमती रहती थी , छुपती छुपाती .. वो एक डरपोक प्रेतात्मा है न ׀ और शिवेंद्र, उसका क्या? अभी तक की कहानी से तो लगता है की उसकी अपनी कोई शख़्सियत ही नहीं, कोई व्यक्तित्व नहीं, या तो रेवती के इशारे पर या फिर सुनंदा के चाबी भरने पर ׀ शिवेंद्र एक ऐसा भूत है तो अपनी बहन और प्रेमिका के इशारो पर नाचता है, अच्छा है राजा नहीं बन पाया वरना पूरा राज चौपट कर देता ׀ यक़ीनन सुनंदा सबसे सुलझी हुई है इन तीनो में, शायद सबसे ज्यादा दुःख दर्द भी इसी ने देखे होंगे ׀ वो अपने भाई से बहुत प्यार करती है और इसी लिए रेवती से भी ׀ सुनंदा याद है न आप को वोही जो कहानी भूत हूँ मैं में बारिश में भीगती हुई मोमबत्ती ले कर बियाबान जंगल में खड़ी थी वोही जिसको देख विशेष खंडहर में चला गया था ׀ अब विशेष को तो इन लोगो ने साजिश रच जेल भेज दिया लेकिन सजा तो असली इनको मिल रही है, जहाँ लगता था की विशेष शिवलिंग स्थापित कर इन्हें मुक्त कर देगा वहां आज साल भर से ऊपर हो गया और ये तीनो सिर्फ और सिर्फ भटक ही रहे हैं ׀ क्या लगता है आपको क्या इस रक्षाबंधन भी ये तीनो यहीं इसी खंडहर में फिर मिलेंगे ? या फिर इस कहानी में कुछ मोड़ आयेंगे और ये तीनो प्रेत योनी से मुक्ति पा जायेंगे? बताएँगे जरूर बताएँगे परन्तु कहानी में आगे, अभी नहीं ׀

लगभग सभी मुख्य पात्रो से तो आपका परिचय करवा ही दिया तो चलिए अब बात करते हैं विशेष की और उसकी कहानी भी थोड़ी आगे बढ़ाते हैं ׀ आखिर आप इस कहानी को उसी के लिए तो पढ़ रहे हैं ׀ जी, मैं समझता हूँ की कुछ लोग लल्लन, कुछ रुपाली और कुछ गरिमा के लिए भी पढ़ते है ׀ और बहुत सारे लोग इन तीनो भूतों के लिए, परन्तु मित्रगण जब तक विशेष की कहानी आगे नहीं बढ़ेगी इन सबकी भी नहीं बढ़ेगी, आखिर बंधे तो सब विशेष से ही हैं न ׀ तो चलिए शुरू करते हैं विशेष की कहानी मेरी जुबानी ׀

जेल पहुचने के बाद कुछ दिन तो विशेष बहुत परेशान रहा, सुबह चार बजे उठा देते थे, फिर काम कराते थे और उसके बाद रात को सोना भी जल्दी होता था  और इस सब की तो विशेष को आदत ही नहीं थी ׀ उसपर रोज रोज की पूछताछ डकैती के जेवर तुखरे पास कहाँ से आये? पैसा अचानक कहाँ से आया? मुन्ना सुपारी गैंग से तुम्हारे क्या सम्बन्ध है ? पुराने नोट कहाँ खपाए? नए नोट कहाँ से आये? कलकत्ता में कौन नोट बदला? अब बिचारा विशेष क्या जवाब दे इन सवालों का ׀

देता है तो फंसता है, और नहीं देता तो, पर उसको ये समझ आ गया था की पुलिस को तो पैसा दे कर अपनी तरफ किया जा सकता है परन्तु मुन्ना सुपारी अगर और नाराज हो गया तो पक्का ऊपर पहुंचा देगा׀ तो आप समझ सकते हैं की विशेष ने सब कुछ झेला परन्तु अपना मुह नहीं खोला ׀ जैसे जैसे समय बीतता गया उसकी निकटता मुन्ना सुपारी से भी बढती गयी ׀ मुन्ना को भी समझ आने लगा था की विशेष परिस्थिति का मारा है उसने न तो मुन्ना का पैसा जान बूझ कर मारा और न ही उसको फसाया ׀ तीन महीने बहुत होते हैं एक दूसरे को समझने के लिए ׀ मुन्ना को ये भी लगने लगा था की विशेष उसके पैसे खपा सकता है काले चोरी के धन को चका चक सफ़ेद बना सकता है ׀ और मुन्ना को एक सफ़ेद पोश जिन्दगी जीने में मदद भी कर सकता है ׀ तो मुन्ना का व्यव्हार विशेष के प्रति बदल गया और उन में दोस्ती हो गयी ׀ रामचंद्र और पप्पू सुनार तो वैसे ही दोनों विशेष और मुन्ना के दोस्त थे तो अब चारो यार मिल गए और जेल में समय कैसे कटा पता ही नहीं चला ׀

परन्तु होनी को इन चारो का जेल में रहना मंजूर नहीं था, रामचंद्र और पप्पू महीने भर के अन्दर ही जेल से छूट गए और बच गए विशेष और मुन्ना सुपारी ׀ अब मुन्ना सुपारी को तो बेल मिलने वाली नहीं है, माना कहानी है, पर कहानी में भी हम सुपारी किलर को जेल से बाहर नहीं आने दे सकते ׀ हम नहीं चाहते की कोई असामाजिक तत्व जेल से बाहर रहे और समाज में गलत सन्देश जाए ׀ हमारी भी कुछ जुम्मेवारी बनती है और हम पूरे से उसे निभाएंगे ׀ मतलब इस पूरी कहानी में मुन्ना सुपारी जेल में ही रहेगा आप निश्चिन्त रहें ׀

विशेष  का वकील था राघवेन्द्र सिंह ‘पप्पी’, अब उसे पप्पी क्यों कहते थे हमे पता नहीं׀ आप पूरी तरह स्वत्रन्त्र हैं सोचने के लिए लेकिन हम इस बारे में कुछ नहीं कहेंगे ׀ हमने कोशिश भी नहीं की जानने की ׀ पप्पी ने बहुत जुगत भिडाये, सारे कोर्ट कचहरी के दरवाजे खटखटाए पर कुछ नहीं हुआ, कोई भी जज विशेष को बेल देने को तैयार नहीं था ׀ होता भी कैसे विशेष का पूरा पैसा तो आयकर वाले ले गए तो जज साहेब को पप्पी क्या देता ? न न ऐसा न सोचे ज्यादातर जज पुरुष हैं और उन्हें पप्पी से सिर्फ पैसा चाहिए ׀ और इन तीन महीनो में पैसा जो भी आया उस पर गरिमा बैठी है अब जब तक गरिमा नहीं चाहेगी पैसा नहीं मिलेगा ׀

और गरिमा, शायद पैसा दे देती परन्तु उसे रुपाली ने नया पाठ पढ़ा दिया है, अब गरिमा के पास मौका है परीक्षा देने का और ये जानने का की वो इस पाठ में पारंगत हुई भी की नहीं ׀ दीपावली एक खास मौका है उपहार देने और लेने का और गरिमा इस बार जज को उपहार देने की ठान ली है ׀ आप गलत समझ रहे है गरिमा अपने आप को क्यों परोसने लगी जब रुपाली उसके पास है ׀ तो इस दीपावली जज साहब को पटाखा उपहार स्वरुप मिलने वाला है ׀ जज साहब का नाम, वो तो हम नहीं बताएँगे, गोपनीय है ׀ पर उन्हें पटाखा भेजा गया और उन्होंने चलाया भी साथ ही ये इच्छा भी जाहिर की कि वो उसे बार बार चलाना चाहेंगे, दीपावली हो या नहीं ׀ गरिमा को क्या दिक्कत हो सकती थी और रुपाली को तो वैसे ही कोई दिक्कत नहीं ׀

कहने का मतलब ये की विशेष की बेल दीपावली की छुट्टी के बात अदालत खुलते ही पक्की हो गयी है और विशेष हमारे बीच आ रहा है ׀ नहीं आ नहीं रहा आ गया है आज ही उसकी बेल मंजूर हो गयी है ׀ उसे नहीं पता की गरिमा और रुपाली ने उसके लिए क्या किया और हम उसे बताएँगे भी नहीं ׀ बता दिया तो कहानी में एक और मोड़ आ जायेगा और इतनी घुमावदार कहानी में जितने कम मोड़ हो उतना अच्छा ׀

आज विशेष जेल से छूट जायेगा, उसके बाद क्या होगा ? क्या जिन्दगी पटरी पर आ जाएगी ? सवाल इतने पर जवाब…. ׀

कल ही गरिमा ने पप्पी को बता दिया था की सुबह अदालत खुलते ही बेल की अर्जी लगनी है और पप्पी आज सुबह १० बजे ही अदालत में था ׀ हाँ लेकिन जज साहेब थोडा लेट से आये, एक तो दीपावली की छुट्टी थी कल तक और ऊपर से रुपाली नमक पटाखा तो देर से आना तो जायज था ׀ प्रक्रिया पूरी होते होते २ बज गए, अब आर्डर की कॉपी ले जेल से छूटना, लगता है आज की रात भी विशेष जेल में ही कटेगा, शायद उसकी आखिरी रात ׀ अरे जिन्दगी की आखिरी रात नहीं जेल की आखिरी रात ׀ विशेष ने सारे मित्रो को खुशखबरी सुनाई और सुबह होने का इंतज़ार करने लगा ׀ इसको आज की रात नींद नहीं आएगी, क्या क्या सोच रहा होगा ये, क्या चल रहा होगा विशेष के दिमाग में ׀ आप भी सोचे, हम तो यह बताएँगे की वो जेल से बाहर निकल क्या करेगा ׀

तो अंततः विशेष आज जेल से बाहर निकला, गरिमा और विशेष का वकील पप्पी दोनों उसे लेने आये थे ׀ गरिमा को देख विशेष चौंक गया ! अरे भाई गरिमा बदल गयी है उसने रुपाली से शिक्षा जो ग्रहण कर ली है ׀ विशेष चोंका जरूर पर पहचान गया की ये गरिमा ही है ׀ अब अगर अपनी पत्नी को नहीं पहचानता तो गरिमा उसकी सुपारी नहीं दे देती ׀ और हम नहीं चाहेंगे की हमारी कहानी के नायक का यह हाल हो ׀ वो बिचारा जेल क्या गया आप में से कुछ लोगो की तो धड़कन ही बंद हो गयी थी ׀ कुछ ने सोमवार और कुछ ने मंगलवार का व्रत रखना शुरू कर दिया, और कुछ तो रोज संकट जी जा रहे थे ׀ हमारा नायक विशेष इतना लोकप्रिय जो है ׀

आज गरिमा हरे रंग की चोगा टाइप कुर्ती पहन के आई थी, गरिमा को देखते ही वो उससे गले लिपट गया, गरिमा की आंखे गीली हो गयी सोचने लगी की अगर तीन महीने की दूरी इतना पास ला सकती है तो साल दो साल में क्या होता ׀ खैर हम इन सब चक्करों में नहीं पड़ेंगे नहीं तो कहानी भटक जाएगी ׀ दोनों ने एक दूसरे का हाल चाल लिया, विशेष ने गरिमा से दूकान के बारे में पूछा और गरिमा ने जेल के खाने के बारे में ׀ अब खाने के बारे में पूछते ही विशेष की भी आँखे भर आई, आँखों के आगे जली हुई कच्ची रोटी और पानी जैसी पीली दाल कौंध गयी ׀ समझ नहीं आता की कैदियों के खाने का बजट नहीं मिलता या फिर जेलर डकार जाते हैं ׀ और अगर कैदियों को खाना भी ठीक से नहीं खिला सकते तो जेल में बंद ही क्यों करते हैं ? आश्चर्य नहीं की नेता और व्यापारी जब जेल में बंद होते हैं तो उनके लिए अलग पांच तारा व्यवस्था करनी पड़ती है ׀ इस बार तो अगर घर से खाना नहीं आता तो दीवाली भी काली हो जाती ׀ वो तो विशेष के जेल आने के बाद गरिमा ने दुकान और पैसा कब्ज़ा लिया था वरना विशेष को जेल में भी विशेषाधिकार मिल जाते ׀ क्या विशेष किसके लिए गरिमा को कभी माफ़ करेगा? चलिए आगे बढ़ने पर सब मालूम हो जायेगा ׀

गरिमा से गले मिलने के बाद वो राघवेन्द्र सिंह ‘पप्पी’ से गले मिला और धीरे से उसके कान में पूछा “रुपाली नहीं आई”? पप्पी ने भी धीरे से जवाब दिया “मरवाएगा क्या”? पप्पी ने पुछा चलो घर चलें, और विशेष ने कहा की नहीं पहले बाबा के दर्शन करने चलते है वहां से दूकान पर और फिर घर ׀ तीनो कार  में सवार हो निकले और पप्पी को उसके कार्यालय छोड़ दोनों बाबा के दर्शन को प्रस्थान किये ׀ शादी के बाद आज शायद पहला मौका था की दोनों एक साथ थे और एक साथ बाबा के दर्शन के लिए गए ׀ कार में बैठते ही विशेष ने दिव्यांश शुक्ला को फ़ोन लगाया और उसे रुद्राभिषेक की तैयारी रखने को बोला ׀

दिव्यांश शुक्ला से आपका परिचय नहीं है, चलिए यहाँ सिर्फ इतना बताते है की वो बाबा के मंदिर में पुजारी है और विशेष का दोस्त ׀ दिव्यांश शुक्ला के बाकि किस्से आप “अखंडेश्वर महादेव” की कथा में पढेंगे ׀ ये क्या है और कहाँ पढ़ने को मिलेगी वो मैं बाद में बताऊँगा ׀ नहीं में जलेबी नहीं बना रहा और न ही कहानी को उलझा रहा हूँ और वैसे भी जलेबी भी कौन सी बुरी होती है ׀ सूत्रधार होने के नाते यह बताना मेरा धर्म है की कौन सा पात्र कहाँ से आ रहा है ׀

 

लक्ष्मी का इंतज़ार

रात भर इंतज़ार करते रहे तेरा

फूलों की सेज पर

अखंड दीप जला कर

पर तुम नहीं आई׀

 

फलों और मिठाइयों के ढेर सजाये

दीप जलाये,

खिड़की दरवाजे भी खुले रखे

की तुम आओगी, वैभव विलास लाओगी  ׀

 

लाओगी अपने साथ खुशहालियां

भर दोगी  झोलियाँ, उपहारों से

पर तुम जालिम

पडोसी के घर चली गयी ׀׀