आलिंगन

यादों के इस शहर में

तेरी बाँहों के आलिंगन से दूर

इस टूटे दिल के सहारे

व्यथा मनोव्यथा को समेटे

मन केंद्र छिपा सार तत्व

क्या कहता है ?

सागर कि लहरों का उन्माद

अशांत उग्र उपद्रवी हृद्य

तेरे केशों का मायाजाल

ताने बुन गहन कोनों को कुरेद

क्या कहता है ?

कल्पना के इस व्याख्यान में

कहावतों कहानियों के उदाहरण परोसता

अनोखी अनुभवी  विश्वव्याखा

निर्दयी अकल्पित अचल सत्य

क्या कहता है ?

वस्तुतः यथार्थवाद

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s