जिस्म और रूह

Image 

जिस्म और रूह 

रूह और जिस्म 

एक दूजे के बिना 

अधूरे से हैं 

रूह भटक जाती हे 

जिसमे खाक होने पे “मोटर” 

The body and the soul are inseparable. The philosophy of soul and body are always debated. The concept depicted in the composition above is close to that of physicalism and is against the concept of dualism and Hindu philosophy that states that mind and body are two separate identities. The great philosophers Aristotle and Pluto propagated the concept of multiple souls each perceiving a different emotion.

The philosophy depicted above can’t be called physicalism too, physicalism is more of materialistic world, where material things give pleasure or pain. The concept just stop short of saying that soul can not be separated from the body, it gets lost when the man dies. But it lives… incapable of anything. The soul needs the body and body needs the soul… and hence inseparable 

Advertisements

2 thoughts on “जिस्म और रूह

  1. रूह और जिस्म की आपकी इन पंक्तियों ने उदास कर दिया क्योंकि जिस रूह को मैं अपना समझ कर जनम जन्मान्तर तक साथ रहने की कसमें खाती थी वो तो मेरी है ही नहीं. वो तो इंतज़ार में है किसी और जिस्म के . तो फिर हमारा क्या है ? न जिस्म न रूह ? कहते हैं शरीर नश्वर है और आत्मा अमर और इसी संतोष में किसी की मृत्यु होने पर हम उसकी आत्मा को याद करते हैं . पर वो आत्मा तो लगता हैं किसी की संबंधी नहीं .. बस जिस्म से नाता है उसका . तो क्या आत्मा भी अस्तित्व के लिए जीती हैं …अजीब लगता है ये सब .

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s