उदास दिल

111aCIMG8067

मैं उदास हूँ या मेरा दिल ।

कैसे पता चलेगा कौन बताएगा ।।

सूरज की तपिष कम है ।

वातावरण में नमी है ।

या फिर मेघ उमड़ आये हैं ।

कैसे पता चलेगा कौन समझाएगा ।।

बारिश की बूंदों के बीच।

नाचते मोर को देख ।

जहाँ झूम उठते है दिल ।

वहीँ मैं उदास हूँ या फिर मेरा दिल ।।

चारों तरफ का नजारा देख।

जहाँ मचल जाते हैं दिल लोगों के ।

रोने लगता है मेरा दिल ।

शायद आज मैं उदास हूँ ।।

Advertisements

One thought on “उदास दिल

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s